Tuesday, August 3, 2010

श्रधा सुमन

दिन के उजाले रातों के
वीराने लगने लगते हैं ,
जब खंजर तेरी यादों के
दिल में चुभने लगते हैं ।

जब हम मन ही मन घुट जाते हैं
सारे आंसू पी जाते हैं,
जब पैमाने खली हो कर ,
एक ओर हो जाते हैं ,
जब मधु शाला के दरवाजों में
भी सांकल चढ़ जाती है ,
तब धरती से सूरज की दूरी
थोड़ी बढ जाती है ।

रातों को तेरी यादों में
जगना मज़बूरी लगती है।
और दिवास्वप्नो की आहट,
आँखों पर भरी लगती है।

तब भी हम तरुणाई लेकर ,
बिन सोए अंगड़ाई लेकर ,
प्रतिदिन मधुशाला जाते है
और तुम्हारी यादों को हम
श्रधा सुमन चढाते हैं।

11 comments:

upendra said...

nice poem

abhishek said...

acchi rachna...

visheshkar antim ki panktiyaan...
तब भी हम तरुणाई लेकर ,
बिन सोए अंगड़ाई लेकर ,
प्रतिदिन मधुशाला जाते है
और तुम्हारी यादों को हम
श्रधा सुमन चढाते हैं

anjali rai said...

nice.......

aditya kumar said...

utsah vardhan karne k liye main upendra ji , abhishek ji aur anjali sharma rai ji ka abhari hun aur asha karta karta hun k aap aise hi mera sath dete rahenge


dhanyavad

प्रकाश ⎝⎝पंकज⎠⎠ said...

रातों को तेरी यादों में
जगना मज़बूरी लगती है।
और दिवास्वप्नो की आहट,
आँखों पर भरी लगती है।

achchhi panktiyann
likhte rahiye
yahan bhi kabhi padhariye:
http://prakashpankaj.wordpress.com

career shapper free service for job seekers said...

nice poems

jobs in india

career shapper free service for job seekers said...

Dummies Guide to Google Blogger

career shapper free service for job seekers said...

jobs

career shapper free service for job seekers said...

Dummies Guide to Google Blogger

career shapper free service for job seekers said...

jobs in india

career shapper free service for job seekers said...
This comment has been removed by the author.

Post a Comment